श्रीप्रभु का विश्वरूप दर्शन..

प्रभु सर्वत्र व्याप्त है। उपनिषदों में भी कहा गया है ‘सर्वं खल्विदं ब्रह्म।` जो कुछ है वह सब प्रभु का ही स्वरूप है। इस ब्रह्मांड के प्रत्येक कण में प्रभु बसा हुआ है। प्रभुचरित्र में कथा भी है, कि प्रभु ने बीदर नगर के भक्तजनों को अपने विश्वरूप का दर्शन दिया था। वे भक्तजन तो अत्यंत सौभाग्यशाली थे परंतु हमारा क्या? क्या हमें कभी प्रभु के दर्शन नहीं हो सकते?

बिलकुल हो सकते हैं और सदा होते भी हैं। श्रीदत्त जयंती महोत्सव के समय माणिकनगर आकर देखिए, आपको प्रभु के विश्वरूप के दर्शन अवश्‍य होंगे। यह महोत्सव हमें प्रभु की प्रभुता का, ऐश्वर्य का, सौंदर्य का एवं वैभव का परिचय देता है। अन्य समय पर सामान्यरूप से सर्वत्र व्याप्त प्रभु के विश्वरूप  दर्शन हमें श्रीदत्त जयंती महोत्सव के समय प्रकर्ष से होते हैं। इस महोत्सव के समय प्रभु की जाज्वल्य शक्ति का सर्वत्र ऐसा संचार होता है, कि माणिकनगर के वातावरण में एक विलक्षण ऊर्जा प्रवाहित हो जाती है। यही वह समय है, जब प्रभु अपने विराट् स्वरूप को प्रगट करता है और क्षण-प्रतिक्षण हमें दिखाई देता रहता है। सदा अव्यक्तरूप में रहनेवाला प्रभु इस महोत्सव के समय नाना माध्यमों से अपने दिव्य स्वरूप को अभिव्यक्त करता है। इसीलिए अन्य समय की तुलना में श्रीदत्त जयंती महोत्सव के समय प्रभु के सगुणरूप के दर्शन पाना अत्यंत सहज एवं सुलभ है।

श्रीदत्त जयंती महोत्सव के समय माणिकनगर पधारने वाला प्रत्येक व्यक्ति प्रभुस्वरूप है किंबहुना प्रभु ही भक्त बनकर इस उत्सव में सम्मिलित होता है। वह प्रभु ही है जो बच्चों का रूप धरकर उत्सव में लगे मेले का लुत्फ उठाता है। वह बूढ़ा आदमी भी प्रभु ही है, जो ठंड में किसी अंगीठी के समीप बैठकर ठिठुरता है। मेले में पागल का वेश धरकर अपनी उटपटांग हरकतों से लोगों का मनोरंजन करने वाला भी प्रभु ही है। बाज़ार में घूमने वाला वह भिखारी भी प्रभु है जो दिनभर यात्रियों से दुत्कार खाता रहता है। वह मिठाई बेचने वाला भी प्रभु स्वरूप है और आकाश में आनंद से मिठाइयाँ उछालने वाला भी प्रभु ही है और ज़मीन पर गिरी उन मिठाइयों को अपने मित्रों से छीना झपटी करके चुनने वाला बालक भी प्रभु है। पानी को केवल अपने स्पर्श से तीर्थ बनाने वाला भी प्रभु है और उस तीर्थ में डुबकी लगाने वाला भी प्रभु ही है। जो प्रभु, समाधि में बैठा हुआ है वही समाधि का अलंकार करने वाला है और वही स्वयं आभूषण भी है। आरती की ज्योति को प्रकाशित करने वाला भी प्रभु है और वह आरती गाने वाला भी प्रभु ही है। चांदी के झूले में बैठकर मज़े में झूलने वाला भी प्रभु ही है और झूला झुलाने वाला भी प्रभु ही है। जुलूस में बाजे की गड़गड़ाहट में नाचने वाला भी प्रभु है और राजोपचार सेवा में नर्तन करने वाला भी प्रभु ही है। महाद्वार में कशकोल लिए घूमने वाला फकीर भी वही है और धुनी के पास बैठा चिलम के कश भरने वाला साधु भी वही है। दक्षिणा दरबार में झोली फैलाने वाला भी प्रभु ही है और खैरात में दिल खोलकर सबकी झोली भरने वाला भी प्रभु ही है। मंदिर की चौखट पर औलाद की कामना करने वाला भी प्रभु ही है और भीड़ में अपनी माँ के बटुए से पैसे चुराने वाला बालक भी प्रभु स्वरूप ही है। भक्तजनों के चप्पलों की रक्षा करने वाला प्रभु है और चप्पलें चुराकर व्यवस्था की परीक्षा लेने वाला भी प्रभु ही है। दरबार में गाने वाला भी प्रभु ही है और वाह कहने वाला भी प्रभु ही है। पौर्णिमा की रात में हज़ारों लोगों को कड़ाके की ठंड में खुले बदन से प्रसाद परोसने वाला भी प्रभु ही है और झूठे पत्तलों में लोटने वाला भी प्रभु ही है। उत्सव के लिए कुछ रुपयों का अनुदान देकर शाही व्यवस्था की अपेक्षा करने वाला भी प्रभुस्वरूप है और चुपचाप से हुंडी में लाखों उंडेलकर चले जाने वाला भी प्रभु ही है। जयंती की राजोपचार सेवा को स्वीकार करने वाला भी प्रभु ही है और उसी पूजा के समय मंदिर के किसी गरम कोने में चादर ओढ़कर झपकियाँ मारने वाला भी प्रभु ही है। दरबार में सिंहासन पर विराजमान होकर प्रसाद देने वाला भी प्रभु ही है और कतार को तोड़कर सबको पीछे ढकेलते हुए दर्शन के लिए उतावला होनेवाला भी प्रभु ही है।

यही प्रभु का विश्वरूप है जिसके दर्शन हमें श्रीदत्त जयंती महोत्सव के समय होते हैं। यह दर्शन अद्भुत आनंद प्रदान करने वाला है। प्रभु के इस स्वरूप को देखने के लिए किसी दिव्य दृष्टि की आवश्‍यकता नहीं है। आप भी प्रभु के इस स्वरूप को देख सकते हैं परंतु नाम-रूप के भ्रम से ऊपर उठकर आपको अपनी दृष्टि को परिवर्तित करना होगा तभी यह संभव है। सर्वत्र प्रभु को देखने का अभ्यास यदि करना हो तो श्रीदत्त जयंती उत्सव से अच्छा दूसरा अवसर नहीं है। इस बार जब आप आएँ तो ध्यान रखें कि प्रभु केवल मंदिर के गर्भग्रह में ही नहीं अपितु समस्त दिशाओं में विभिन्न रूपों में आपको दर्शन दे रहा है। श्रीदत्त जयंती उत्सव में पधारिए और प्रभु के इस विश्वरूप को पहचानकर अपने हृदय में विराजित प्रभु के दर्शन कीजिए। मेंरा दावा है, कि प्रभु के इस विश्वरूप का दर्शन पाकर हमारे सद्गुरु श्री मार्तंड माणिकप्रभु महाराज के इस वचन की प्रत्यक्ष अनुभूति आप सबको अवश्‍य प्राप्त होगी।

तत्पद ईश्‍वर तूं क्रीडाया। एकचि बहुधा होसी।
आपणां विलोकुनी अति हर्षे। सर्वही आपणचि होसी।
प्रवेश करूनियां निजसत्तें। दृश्‍य जडां चेतविसी।
नामरूपाते दावुनियां। स्वस्वरूप लोपविसी॥

सकलमत शतक पर प्रभुभक्तों के अभिप्राय

चैतन्यराज प्रभु द्वारा रचित ‘सकलमत शतक’ कविता पर प्रभुभक्तों के अभिप्राय।

श्रीजींनी आपल्या आशिर्वचनात म्हटले प्रमाणे सातत्याने आठव्या पिढीतील आपली ही काव्यस्फुर्ती श्रीप्रभु कृपेचीच साक्ष आहे. वेदान्तासारखा क्लिष्ट विषय रोजच्या जड व्यवहाराशी सांगड घालत आमच्यासारख्या सर्वसामान्यांच्या पचनी पडेल असे सोपे करून सांगण्याची किमया या काव्यात आपण केली आहे. आपल्या प्रस्तावनेतहि आपण या काव्याचे निरुपण करताना म्हटले आहेच की, स्वधर्माचा दुराभिमान सोडून – सकलमतांचा विचार करीत या साधनेत स्वतःला पूर्णपणे हरवून घेतल्यास जीवन प्रभुमय बनेल. आपल्या जन्मतिथीला प्रसिद्ध झालेली ही ‘काव्यशलाका’ म्हणजे भवसागरी अंधकार दूर करणारा या दीपोत्सवातील अपूर्व योगच म्हणावा. खरोखरीच सातत्याने आठव्या पिढीतही तितक्याच प्रगल्भतेने अष्टदिशांना मार्ग दाखविणाऱ्या दीपस्तंभाप्रमाणे आपले नेतृत्व, गायकी, प्रभुकथा प्रवचनांतून ज्ञानदान, कार्यक्रमांचे नियोजन, त्यांची अंमलबजावणी, संस्थानच्या परंपरांची निष्ठेने जपणूक, कमालीचा शांत स्वभाव, व शेवटी सर्वात महत्वाचे – श्रीप्रभूंवर अतूट निष्ठा या अष्टावधानी गुणांचा संचय आपल्यावर श्रीप्रभूंची पूर्ण कृपा असल्याचीच प्रचीती देते.

आपल्या काव्यात सुरुवातीस श्री प्रभूकालीन समाजस्थिती, तत्कालीन मागासलेल्या मानवी मनाची बैठक, त्याचे दुष्परिणाम नंतर श्रीप्रभूंचे अवतार कार्य, त्यातून झालेली सुधारणा, पुढे श्रीप्रभूंनी दिलेली शिकवण – वसुधैव कुटुंबकम्‌, परधर्मियांचा आदर, सकलमत संप्रदायावर विश्वास, नद्यांचे सर्व दिशांनी वाहणे व शेवटी सागराला एकत्र मिळणे किंवा “सर्वदेव नमस्कारः केशवं प्रतिगच्छति” हा सद्विचार व त्याद्वारे सिद्ध होणारे सकलमत संप्रदायाचे महत्व, त्यावरील एकनिष्ठता व शेवटी त्यातून मिळणारे ‘‘आधी लगीन कोंढाण्याचे मग रायबाचे’’ या तानाजी मालुसारेंच्या विचाराप्रमाणे केवळ स्वतः पुरता संकुचित विचार सोडून आधी दुसऱ्यांना सुखाविण्याचा प्रयत्न – ‘‘सर्वेजनाः सुखिनो भवन्तु – सर्वेसन्तु निरामयः’’ हि शिकवण, श्रीसंस्थानचे बोधवाक्य ‘‘एकं सद्विप्रा बहुधा वदन्ति’’ तसेच ‘‘One in All, And All in One’’ हे सकलमती तत्व तसेच ‘‘शीतोष्णसुखदुःखेषु समस्संग विवर्जित:” गीतेतल्या यासारख्या उपदेशांचा पाठपुरावा, संसारात राहून नि:संग जीवन व्यतीत करणे, मुंगीने थाळीतील पाकात स्वतःला पूर्णपणे बुडवून घेऊन मरण्यापेक्षा थाळीच्या काठावरच बसून पाकाचा थोडा थोडा मर्यादित अस्वाद घेणे, जीवभावातून निघून अहंब्रह्मास्मि, किंवा तू कोण आहेस? असे गुरुंने विचारल्यानंतर ‘‘शिवोहम-शिवोहम’’ असे उत्तर देण्याची शक्ती मिळवणे – हे सर्व विषय आपण या काव्याद्वारे उत्कृष्टतेने मांडले आहे. शेवटी श्री मार्तंडप्रभूंनी म्हटल्याप्रमाणे “स्वनुभवस्फुर्ती  पद मनी सार्थ जडे। ब्रह्मकपाट अविद्या सहजी उघडे। चिन्मार्तांड प्रसादे हा योग घडे। सकलमत प्रभू नांदे जिकडे तिकडे।। ही श्रीप्रभूंची शिकवण आमच्या मनी ठसो व आम्हांस त्याची प्रचीती येवो अशी श्री प्रभूचरणी प्रार्थना –  श्री देविदास के. देशमुख – सगरोळी, महाराष्ट्र

या काव्यात आपला स्वानुभव पूर्णपणे प्रदर्शित झाला आहे. केवळ स्वानुभवात विरून न जाता आपण आम्हा भक्तांना उपासना मार्ग सोपा करून सांगत आहात हे खरोखर आमचे सौभाग्य आहे. या कावितेच्या सहाय्याने आम्हा भक्तांना सकलमताच्या मार्गावर पाय घट्टपणे रोवून चालणे सुलभ वाटत आहे. – श्री चंद्रकांत देशपांडे – ठाणे, महाराष्ट्र

श्री चैतन्यराजांची प्रभुभक्ती आणि प्रभुसेवेची ओढ त्यांच्या काव्य रचनांमधून नेहमीच झळकत असते. दिवाळीमध्ये रांगोळीचे ठिपके ठिपके एकत्र जोडून, त्यात रंग भरून सुंदर कलाकृती निर्माण होते त्याप्रमाणे आजच्या मंगलदिनी प्रभूंच्या दिव्य उपदेशांना एकत्र जोडून चैतन्यराजांची ही अमूल्य भेट श्रीप्रभु संस्थानच्या महानतेत भर टाकत आहे. प्रभु उपदेशाची महानता संपूर्ण जगात पोहोचविण्याचे जे कार्य त्यांनी हाती घेतले आहे ते यशाची परिसीमा गाठो, ही भक्तांची इच्छा प्रभु नक्की पूर्ण करतीलच. श्रीमार्तंड प्रभूंचे वचनच तसे आहे ‘‘जी भक्तप्रतिज्ञा तीच श्रीगुरू आज्ञा’’ – सौ. किशोरी पाठारे – मुंबई, महाराष्ट्र

फारच सुंदर रचना आणि बोधात्मक प्रकटन. असाच लाभ निरंतर घडो ही प्रभु चरणी प्रार्थना – श्री राजीव सगरोळीकर – सातारा, महाराष्ट्र

प्रभूंची संपूर्ण कृपा, महराजश्रींचा लाभलेला परंपरागत वारसा आणी आपले अथक परिश्रम या त्रिवेणी संगमातून  ‘‘सकलमत शतक’’ रुपी अमृत सद्भक्तांसाठी प्राप्त झाले. सकलमत परंपरेचा उत्कर्श होत राहो, प्रभु चरणी हीच प्रार्थना. – श्री मधुकर राव महाजन – बसवकल्याण, कर्नाटक

अतिशय सुंदर रचना! ‘‘सकलमत शतकाचे’’ वर्णन करणे  शब्दांच्या पलीकडचे आहे. शेवटी एवढेच म्हणावे वाटते कि मौनाचे बोलणे सरले । ब्रम्हासी ब्रम्हपण आले।। – श्री शैलेश सगरोळीकर – उमरगा, महाराष्ट्र

काल निवांतपणे ‘‘सकलमत शतक’’ वाचले. अप्रतिम काव्यरचना! अतिशय सहजसोपी, अर्थपूर्ण रचना. आपली शब्दांवरील हुकूमत, रचनेतील नादमयता आणि ‘श्रीप्रभूजीवनी’ पासून अवतारकार्य ते सकलमत संप्रदायाच्या वैशिष्ट्यांची केलेली मांडणी निव्वळ अदभुत आणि आनंददायी आहे.आपल्यावर असलेली श्रीप्रभूपरंपरेची कृपा सर्व रचनांमध्ये ठळकपणे जाणवत होती आणि त्याबद्दल आपले मनापासून अभिनंदन. अशा विविध निर्मितीप्रयोगांद्वारे आपण सकलमत संप्रदाय अधिकाधिक भक्तजनांपर्यंत पोहोचवाल याची खात्री बाळगतो आणि आपणांस मनापासून शुभेच्छा देतो. – श्री विवेक दिगंबर वैद्य – मुंबई, महाराष्ट्र

‘‘सकलमत शतक’’ ही आपली अप्रतिम रचना अतिशय सुंदर आहे, मनात विचार आला माझ्या सारख्या अल्पमती साठीच आपण हा सारा प्रयास केला असावा. सकलमत शतक चे वारंवार वाचन  केले आणि मग उमगलं, अरे आज पर्यंत आपण प्रभूंचे अति विशाल साहित्य आत्मसात्‌ करण्याचा प्रयास करत होतो पण या संसार व्यपातून ते पूर्णत्वास जात नव्हत. पण आज आपल्या या रचनेतून ‘‘प्रभू साहित्य सार अमृत’’ आमच्या हाती लागले असं मला वारंवार जाणवत आहे. – सौ. सुषमा बन्नीकोड – पुणे, महाराष्ट्र

‘‘सकलमत शतक’’ ही सकलमत संप्रदायाच्या सिद्धांताची काव्यात्मक संस्तुति आणि त्यासाठी दिलेले आशीर्वाद रुपी वचने वाचून मनास मोहर आला.खरे तर आशीर्वचनानंतर सकलमत शतकपर काही लिहावे ही माझी योग्यता नाही.पण जवाहिऱ्याकडील रत्न पाहून, त्यावरचे तास (dimensions) पाहून जसे नेत्र सुखावतात तद्वत माझे लेखणी रुपी नेत्र स्त्रवू लागले आहे. नदीचे घाट वेगळे असले तरी पाणी एकच! त्यात फरक नाही, आत्मभावात राहण्याचा अभ्यास, दूर कोठेही न जाता ठायी बसुनी करा एकचित्ताची संथा, अविद्येने साचलेली जीवावरील मायेची धूळ, जीवाचे खरे स्वरूप, त्यासाठी आवश्यक असणारी सावधानता, मायेला न घाबरता भवनिद्रेतून उठण्याचा संकल्प, समोर सदैव वाहणारी गुरूकृपा आणि प्रभु आशीर्वाद हा सगळा वेदांताचा काव्यमध सिद्धहस्त कवी सकलमत संप्रदायाच्या सुवर्णपळीने सर्व भक्तजनांना पाजीत आहे असे म्हटल्यास वावगे ठरू नये. ज्ञानदेवांच्या हरिपाठासारखा दिशादर्शक असा सकलमत संप्रदायाचा हा 102 श्लोकांचा हरिपाठच प्रसवला आहे ह्या भावनेने समस्त गुरुपरंपरेला वंदन करून नतमस्तक होण्यातच ही लेखणी भूषण मानते. डॉ. अविता विनय कुलकर्णी – मुंबई, महाराष्ट्र

अतिशय सुंदर रचना! Words are not sufficient to appreciate your work, efforts and devotion. Excellent! no words to express the depth of this wonderful piece of poem. श्री प्रकाश नेरुरकर – जिनिवा स्विट्ज़रलॅन्ड

सकलमत शतक काल पूर्ण वाचले. खूपच छान लिहिले आहे. प्रभूंच्या रूपाचे, गुणांचे, स्वरूपाचे अनेकांनी वर्णन केले आहे. तथापि त्यांच्या सिद्धांतांवर काव्य करावे, हा विचारच खूप आगळा-वेगळा आहे. ह्यातून संप्रदायाविषयी आपल्या मनात असलेला अभिमान व श्रद्धा तर दिसून येतेच, तसेच ह्या सिद्धांताचा प्रचार-प्रसार होण्यासाठी आपल्या मनातील तळमळ सुद्धा प्रकर्षाने जाणवते. आणि काव्याचे तर कौतुक करावे तेवढे थोडेच आहे. आपली काव्य संपदा, शब्दांची निवड, प्रत्येक ओळीतील छंदबद्धता ह्या सगळ्या मुळे हे काव्य अतिशय सुमधुर झाले आहे. सकलमत शतकास व आपल्या काव्य-प्रतिभेस शतशतकोटी प्रणाम – सौ. प्राची चित्रे – ठाणे, महाराष्ट्र

‘‘सकलमत शतक’’ शब्दातीत आहे. एक-एक वाक्य सकलमत संप्रदायाची सहज आणि सरळ व्याख्या समजवून सांगतं. आपल्या स्वभावातील विनयशीलता जागोजागी अनुभवता येते. हे शतक वाचनीय तर आहेच पण मननीय झाले तर संपूर्ण मानवजातीवर ह्याचा प्रचंड प्रभाव पडेल. आपली शब्दसंपदाही विपुल आणि विशाल आहे. प्रभुंची काव्यप्रतिभा नवीन पीढीही चालवतेय ही अत्यंत आनंददायी अन् स्पृहणीय बाब आहे.सकलमत संप्रदायाची शिकवण, ह्या काव्यातून, आपण आपल्या सशक्त खाद्यांवर समर्थपणे पेलली आहे. प्रत्येक शब्दागणिक उत्कंठावर्धक होणारे असे हे काव्य प्रथम भागाकडून द्वितीय भागात जाताना जीवन जगण्याचा राजमार्ग हळूवारपणे उलगडत जाते. ते समजून आचरणांत आणणे ही प्रत्येक मानवाची जबाबदारी आहे. त्या जबाबदारीचे निर्वहन करण्याची सद्बुद्धी श्रीप्रभु सर्वांस देवोत ही श्रीप्रभुचरणी विनम्र प्रार्थना. सुंदर सादरीकरण. सविस्तर वाचेन. अभिनंदन, कौतुक अन् शुभेच्छा. श्री प्रणिल सावे – मुंबई, महाराष्ट्र

हिंदी वाचण्याची अजीबात सवय नसली तरीही, ज्या प्रमाणे मिष्टान्न खायला सुरु केलं की त्या रसोत्पत्तीत भूक निर्माण होउन तृप्ती ही मिळते त्याच प्रमाणे श्री चैतन्य राज प्रभूंच्या या कवितेच्या बाबत झाले. खर तर लेखक कोण ते नंतर बघितलं आणि नतमस्तक झालो. ज्ञान स्त्रोताशी निरंतर अनुसंधान असल्याखेरीज अशी रचना संभवत नाही –  श्री जनार्दन सुरेश सपरे.

हीरे की नथ

श्रीमन्मार्तंड माणिकप्रभु महाराज की बहन सौ. मुक्ताबाई अम्मा की यह बड़ी इच्छा थी कि उन्हें पुत्र संतति की प्राप्ति हो। विवाह के बाद उन्होंने ६ पुत्रियों को जन्म दिया परंतु पुत्रहीन होने की व्यथा उन्हें सदा सताया करती थी। अम्मा ने अपने मन की पीड़ा अपने भाई मार्तंड माणिकप्रभु महाराज के समक्ष रखी और ‘मेरी यह मनोकामना कब पूरी होगी?’ ऐसा सवाल महाराजश्री से पूछा। महाराजश्री बोले ‘अक्का, प्रभु का आशीर्वाद इतना सस्ता नहीं है उसे पाने के लिए कीमत चुकानी पड़ती है। सेवा करने की तैयारी हो तो बोलो, मैं आपको एक उपाय बताता हॅूं।’ महाराजश्री की इस बात को सुनकर अम्मा व्याकुल होकर बोलीं ‘तुम जो भी सेवा करने को कहोगे, मैं करूंगी पर मुझे बेटा चाहिए।’

प्रभुमंदिर में आज जहाँ कैलास मंटप है वहॉं पहले बांस और लकड़ियों से बना एक मंटप था। महाराजश्री ने अपनी अक्का से कहा ‘अक्का, मंदिर में घांस का जो मंटप है, आज से उसकी साफ-सफाई की जिम्मेदारी आपकी। यदि निष्ठा से आप यह सेवा करेंगी तो आपकी कामना निश्चित पूर्ण होगी।’

अगले ही दिन से मुक्ताबाई अम्मा ने मंटप के साफ-सफाई की सेवा आरंभ कर दी। मंटप में झाडू लगाना, ज़मीन को गोबर से लीपकर संम्मार्जन करना तथा रंगोली बनाने का कार्य मुक्ताबाई अम्मा बड़ी निष्ठा से नित्य करने लगीं। ठंडी हो, गर्मी हो, या बारिश उन्होंने प्रभुसेवा में कभी भी खंड पड़ने नहीं दिया। मुक्ताबाई अम्मा ने अपनी कठोर तपस्या से आखिर प्रभु को प्रसन्न कर लिया और सोमवार २८ अक्तूबर सन्‌ १८९५ को उन्होंने पुत्ररत्न को जन्म दिया। श्रीजी ने अपने इस भांजे का नाम शंकर रखा, जो आगे चलकर श्री शंकर माणिकप्रभु के रूप में प्रसिद्ध हुए।

यद्यपि मुक्ताबाई अम्मा की मनोकामना पूर्ण हो चुकी थी तथापि उन्होंने सेवा को निरंतर जारी रखा। कालांतर में उस स्थान पर सन्‌ १९०० में मार्तंड माणिकप्रभु महाराज ने भव्य सभा मंटप का निर्माण करवाया और उसे कैलास मंटप यह नाम दिया।

मुक्ताबाई अम्मा जानती थीं, कि मंटप के सफाई की सेवा कितनी कठिन है और इसलिए उन्हें चिंता होती थी, कि उनके बाद इस सेवा में कहीं ढिलाई न आ जाए। यह सोचकर उन्होंने अपने भांजे बाबासाहेब महाराज को अपनी हीरे की नथ देकर कहा ‘इसे बेचकर कैलास मंटप में संगेमरमर का फर्श बिछवा दो।’ तदनुसार श्री बाबासाहेब महाराज मुंबई गए और वहॉं उन्होंने वह हीरे की नथ १९५० रुपयों में बेची। उस समय के १९५० रुपये का मूल्य आज लाखों रुपये होगा। उस धनराशि से श्री बाबासाहेब महाराज ने प्रभुमंदिर के कैलास मंटप में विद्यमान संगमरमर का फर्श बिछवाया। जीवन के अंतिम दिनों तक प्रभुसेवा में तल्लीन रहकर —- १९०९ को मुक्ताबाई अम्मा प्रभुस्वरूप में लीन हुईं।

(श्री संस्थान के अभिलेखागार में उपलब्ध इस दस्तावेज के आधार पर यह ज्ञात होता है, कि २२ फरवरी १९०९ को श्री बाबासाहेब महाराज ने मुंबई में मुक्ताबाई अम्मा की हीरे की नथ बेची, जिससे उन्हें १९५० रुपरे प्राप्त हुए। श्री बाबासाहेब महाराज की इस मुंबई यात्रा के हिसाब का संपूर्ण विवरण इस दस्तावेज में दर्ज है।)

प्रभुमंदिर का सौंदर्य बढ़ाने वाला वह भव्य कैलास मंटप और उस मंटप का वह ऐतिहासिक संगेमरमरी फर्श आज भी हमें मुक्ताबाई अम्म की उत्कृष्ट सेवा भाव का स्मरण दिलाता है और प्रभुचरणों की सेवा के प्रति सदा तत्पर रहने को प्रेरित करता है।

बत्तीस हत्ती

तेलंगाना में निजामाबाद के निकट एक स्थान है, जिसका नाम है शरणापल्ली, जिसे सिरनापल्ली के नाम से भी जाना जाता है। शरणापल्ली संस्थान निज़ाम रियासत का एक विख्यात परगना था। शरणापल्ली घराने की प्रख्यात रानी, चिलम जानकाबाई, श्रीमन्मार्तंड माणिकप्रभु महाराज की निष्ठावान्‌ शिष्या थीं। श्रीजी के कार्यकाल में श्रीसंस्थान की जो प्रगति हुई उसमें रानी जानकाबाई का अत्यंत महत्वपूर्ण योगदान रहा है। माणिकनगर में समय-समय पर आयोजित होने वाले छोटे-बड़े उत्सव-महोत्सवों के समय प्रभुसेवा के अवसर प्राप्त करने के लिए रानी साहिबा बड़ी तत्पर रहा करती थीं। संस्थान को जब कभी भी उनसे किसी सहायता की अपेक्षा होती, वे बड़ी उदारता से अविलंब सहकार्य करतीं।

एक बार श्रीजी ने रानी जानकम्मा को मराठी में चिट्ठी लिखी। उस चिट्ठी का मुख्य वाक्य था ‘‘बत्तीस हत्ती पाठवून देणे’’ महाराजश्री की आज्ञा के अनुसार रानी जानकम्मा ने एक हाथी माणिकनगर भेजा और महाराजश्री को पत्र लिखा कि “फिलहाल केवल एक ही हाथी भेज रही हूं। हाथियों के देखरेख की पर्याप्त व्यवस्था होते ही बाकी के 31 हाथियों का प्रबंध शीघ्र ही हो जाएगा। महाराज इसे अन्यथा न समझें’’ जब महाराजश्री को पता चला कि, रानी ने हाथी भेजा है तो वे जोर से हँसे और बोले – मैं भला इस हाथी को लेकर क्या करूंगा मैंने तो कपास मांगा था और रानी ने हाथी भेज दिया। इस हाथी को वापस शरणापल्ली भेज दो।

दरअसल, कन्नड भाषा में कपास को हत्ती और दिये की बाती को बत्ती कहते हैं। पत्र में महाराजश्री ने लिखा था – बत्तीस हत्ती पाठवून देणे, बत्तीस हत्ती से महाराजश्री का अभिप्राय था, कि बत्ती बनाने के लिए हत्ती की अर्थात कपास की ज़रूरत है। महारजश्री ने प्रभुमंदिर में होने वाली आरती में लगने वाली बत्ती यानी बाती के लिए हत्ती यानी कपास मंगवाया था। महाराजश्री द्वारा पत्र में लिखा हुआ वह कन्नड मिश्रित मराठी वाक्य हमारे लिए तो आज अत्यंत आमोद जनक है परंतु ज़रा सोचिए, कि ‘बत्तीस हाथी भेज दो’ यह वाक्य पढ़कर उस समय बेचारी रानी का क्या हाल हुआ होगा!

प्रभुनाम प्रचार का अभिनव प्रयोग

कल मेरे वॉट्सॅप पर किसीने एक वीडियो भेजा था। मैं वीडियो को डाउनलोड करके देखने लगा। किसी तेलुगू धारावाहिक का वह क्लिप था। उस दृष्य में ऐसा चित्रित किया गया था, कि एक पुरोहित मंत्रोच्चार करते हुए यजमान के हाथों से पूजा करवा रहे हैं। पंडितजी ने पूजा विधि का आरंभ ही ‘भक्तकार्यकल्पद्रुम गुरुसार्वभौम..’ के घोष से किया। उस धारावाहिक में श्रीप्रभु की ब्रीदावली को सुनकर मुझको और वहॉं उपस्थित सभीको बड़ा आश्चर्य हुआ। हमने सोचा, कि भला इस धारावाहिक में पंडितजी ने भक्तकार्यकल्पद्रुम का घोष कैसे किया? फिल्मों में तथा धारावाहिकों में पूजा-पाठ और अन्य धार्मिक विधियों के समय सामान्यरूप में जो मंत्र/श्लोक हमें सुनने को मिलते हैं उनसे हम सब परिचित हैं। परंतु इस धारावाहिक में जब हमने भक्तकार्य मंत्र सुना तो सब अचंभित रह गए। वैसे तो सारे विश्वभर में प्रभुभक्त इस महामंत्र का नित्य जप करते हैं परंतु किसी धारावाहिक में इस मंत्र को सुनना एक रोमांचक अनुभव था। मुझे लगता है कि ऐसा पहली ही बार हो रहा है और यह देखकर हम सभी प्रभुभक्तों को बड़ी प्रसन्नता हुई है।

जब पता लगाया गया कि यह कैसे हुआ तो मालूम पड़ा, कि उस धारावाहिक में पुरोहित का पात्र जिन्होंने निभाया है, वे प्रभु के ही भक्त हैं जिनका नाम है श्रीकिशन संगमेश्वर कुलकर्णी। किशन, तेलंगाणा स्थिति पटलूर ग्राम के प्रभुभक्त श्री संगमेश्वर राव कुलकर्णी के सुपुत्र हैं जिन्होंने ‘कुंकुम पूवू’ इस तेलुगु धारावाहिक में पुरोहित का पात्र निभाया है। हैदराबाद नगर में रहकर पौरोहित्य की विद्या में नैपुण्य प्राप्त करने वाले किशन को अभिनय क्षेत्र में काम करने का अवसर प्राप्त हुआ और इस धारावाहिक में उन्होंने अपनी भूमिका बड़ी कुशलता से निभाई है। धारावाहिक की शूटिंग के समय निर्देशक ने उनसे कहा होगा, कि ‘पंडितजी आपको यजमान के हाथों पूजा करवानी है और कुछ मंत्र पढ़ने हैं।’ किशन ने उस दृष्य की शूटिंग में पूजा की शुरुआत ही  भक्तकार्यकल्पद्रुम गुरुसार्वभौम . . इस महामंत्र से की और प्रभु के नाम की गूंज को लाखों लोगों तक पहुँचाकर विश्वभर में फैले प्रभुभक्तों को आनंदित किया।

जब हम किसी का अच्छा काम देखते हैं तो उसका उत्साहवर्धन करने के बजाय निंदा करने लग जाते हैं। आजकल के लोगों की यह आदत बन चुकी है। उस नज़रिये से सोचने वाले इस घटना को सुनकर कहेंगे, कि ऐसा उस पंडित ने कौनसा बड़ा तीर मारा है? उससे फायदा क्या हुआ? इसमें कौनसी बड़ी बात हो गई? इस कृत्य की इतनी प्रशंसा क्यों की जा रही है?

भगवान्‌ जब समुद्र पर सेतु का निर्माण करवा रहे थे, तब वानरों की भागदौड़ को देखकर एक छोटी सी गिलहरी को भी लगा, कि मैं भी इस महत्कार्य में कुछ मदद करूं। उस गिलहरी ने छोटे-छोटे कंकर पत्थर उठाकर समुद्र में फेंके और सेतु के निर्माण में अपना योगदान दिया। वानरों द्वारा बनाए हुए प्रचंड सेतु में भले ही गिलहरी का योगदान बहुत छोटा सा था परंतु उस गिलहरी की जो भावना थी उससे प्रभावित होकर साक्षात्‌ प्रभुरामचंद्र ने उस गिलहरी को अपने हाथों में लेकर उसका कौतुक किया। आज जब-जब रामसेतु की बात चलती है, तब-तब हर बार उस गिलहरी के प्रयासों को हम याद करते हैं। कार्य की विशालता से कार्य का मूल्यांकन नहीं होता अपितु उस कार्य के पीछे जो भावना होती है उसससे कार्य की महत्ता बढ़ती है। बस मन को प्रभु से युक्त करने की ज़रूरत है फिर अपने आप हमारे हाथों से होने वाला प्रत्येक कृत्य प्रभु के महान्‌ कार्य का पूरक बनने लगता है।

पिछले अनेक वर्षों से इस संप्रदाय के निष्ठावान सद्भक्तों ने संप्रदाय के प्रसार-प्रचार के उत्तरदायित्त्व को कुशलता से निभाया है। इसीलिए आज हम देखते हैं, कि विश्वभर में प्रभु की महिमा का सुगंध सर्वत्र प्रसृत हुआ है। प्रभु के भक्त होने के नाते हम सभीका यह कर्तव्य है, कि हम अपनी क्षमता के अनुसार प्रभु संप्रदाय तथा प्रभु के उपदेशों के प्रचार-प्रसार के बृहत्कार्य में अपना योगदान देते रहें।

सकल मतांसी मान द्यावा।
स्वकीय संप्रदाय वाढवावा।
ज्ञानमार्गे अभ्यासावा।
शुद्ध जो।।

सद्गुरु मार्तंड माणिकप्रभु महाराज ने तो गुरुसंप्रदाय के इस श्लोक के माध्यम से प्रत्येक सांप्रदायिक प्रभुभक्त को यह आदेश दिया है कि वह अपने संप्रदाय के प्रचार-प्रसार के लिए प्रयासरत रहे।

संप्रदाय के प्रसार की जब बात होती है, तब कुछ लोगों को लगता है, कि यह काम तो श्रीजी का है और वे अपनी अमोघ वाणी के माध्यम से प्रभु के दिव्य संदेश का प्रचार कर ही रहे हैं। हॉं यह बात सत्य है परंतु ऐसा कहकर सारा भार श्रीजी पर डालकर स्वयं कुछ न करना भी ठीक नहीं है। पीठ परंपरा के आचार्य होने के नाते श्रीजी का तो यह कर्तव्य है ही परंतु सांप्रदायिक अनुयायी होने के नाते संप्रदाय के प्रचार में हमारा जो योगदान होना चाहिए उसके प्रति हमें सदा सजग रहना चाहिए।

हमें लगता है, कि प्रचार-प्रसार का कार्य तो बहुत बड़ा है और यह अकेले व्यक्ति से संभव नहीं है। प्रचार-प्रसार के लिए तो बड़े-बड़े कार्यक्रमों के आयोजन करने होंगे, बड़े-बड़े बॅनर लगाने होंगे, बड़े मंडपों में लोगों की भीड़ इखट्टी करनी होगी और बहुत सारा धन खर्च करना पड़ेगा, बहुत समय देना होगा तब जाकर कहीं प्रभु का प्रचार होगा। किशन कुलकर्णी ने अपने अभिनव कृत्य से यह सिद्ध करके दिखा दिया है कि मन में प्रभु के प्रति निस्सीम प्रेम और संप्रदाय का अभिमान रखकर जब कोई भक्त अपने असमर्थ हाथों से प्रभु के लिए कोई छोटा सा भी काम करता है तब प्रभु स्वयं उस कार्य को अत्यंत महान्‌ और विशाल बना देते हैं।

पटलूर के अभिमानी सद्भक्त किशन ने प्रभुनाम के प्रचार की जो अभिनव पद्धति अपनाई है वह सचमुच सराहनीय है। वैसे देखा जाए तो उस दृष्य की शूटिंग में उनसे किसी ने नहीं कहा था कि भक्तकार्य मंत्र बोलो परंतु जब भक्त का हृदय प्रभु से युक्त होता है तब उसके प्रत्येक कृत्य से प्रभु किसी न किसी रूप में जुड़ ही जाते हैं। अहंतारहित शुद्ध अंतःकरण में जब प्रभुसेवा की इच्छा जागती है तब स्वयं प्रभु इस देहरूपी रथ के सारथी बनकर हमारे हाथों से असाधारण कार्य करवाते हैं। इस विशिष्ट कृत्य से उन्होंने केवल अपने माता-पिता का ही नहीं अपितु समस्त भक्त परिवार का गौरव बढ़ाया है। आधुनिक प्रसार माध्यम से लाखों लोगों तक श्रीप्रभु की ब्रीदावली को पहुँचाकर उन्होंने अपनी महत्वपूर्ण सेवा श्रीचरणों में समर्पित की है। इस प्रेरणादायी कार्य के लिए हम श्रीसंस्थान की ओर से तथा समस्त भक्त परिवार की ओर से श्री किशन कुलकर्णी का अभिनंदन करते हैं।